राजस्थान के प्रमुख त्यौहार Rajasthan Ke Tyohar

1

राजस्थान के प्रमुख त्यौहार Rajasthan Ke Tyohar Hindi

Rajasthan Ke Tyohar Hindi राजस्थान एक हंसमुख राज्य है, जो पूरे वर्ष भर चलने वाले मेलों और त्योहारों की एक सरणी के माध्यम से अपनी जीवंत संस्कृति का जश्न मनाता है, जो राज्य की शुष्क भूमि में कई रंगों को जोड़ता है। ये चकाचौंध भरे मेले और त्यौहार यात्रियों को कला, संस्कृति, परंपराओं के बारे में बताने का मौका देते हैं जो राज्य के शाही इतिहास के साथ बहुत अच्छी तरह से जुड़े हैं। राजस्थान एक अनोखी जगह है जो जीवन का जश्न मनाने में विश्वास करती है। rajasthan festival in hindi

Rajasthan Ke Tyohar Hindi

मेलों और त्यौहारों की ये किस्में राजस्थान की बंजर भूमि में जीवन को भर देती हैं और चारों ओर खुशी के रंग भर देती हैं ऐसे सभी उत्सवों में से कुछ प्रमुख हैं अश्व पूजन, नवरात्रि, गुरु पूर्णिमा, पर्व। अबू: समर और विंटर फेस्टिवल, पुष्कर मेला, गणगौर महोत्सव, नागौर महोत्सव, पतंग महोत्सव,जो राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में मनाया जाता है। इसके अलावा, हिंदुओं के सबसे बड़े त्योहार दशहरा और दिवाली भी बहुत भव्यता और आतिशबाजी के प्रदर्शन के साथ मनाए जाते हैं आज इस artical में राजस्थान के प्रमुख त्यौहार और महोत्सव के बारे में विस्तार से बतायेंगे |

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार देशी महीने

  1. चैत्र –मार्च-अप्रेल
  2. वैषाख – अप्रेल -मई
  3. ज्येष्ठ –मई-जून
  4. आषाढ़ – जून-जुलाई
  5. श्रावण-जुलाई- अगस्त
  6. भाद्रपद-अगस्त -सितम्बर
  7. आष्विन- सितम्बर- अक्टूबर
  8. कार्तिक – अक्टूबर नवम्बर
  9. मार्गषीर्ष – नवम्बर – दिसम्बर
  10. पौष – दिसम्बर- जनवरी
  11. माघ – जनवरी-फरवरी
  12. फाल्गुन –फरवरी -मार्च

राजस्थान के प्रमुख त्यौहार Rajasthan Ke Tyohar Hindi

चैत्र (मार्च-अप्रैल)

धुलण्डी:-

  • भारतीय उपमहाद्वीप से उत्पन्न एक लोकप्रिय प्राचीन हिंदू त्योहार है।
  • इस त्योहार को भारतीय “वसंत का त्योहार”, “रंगों का त्योहार” या “प्रेम का त्योहार” के रूप में जाना जाता है।
  • चैत्र माह की कृष्ण प्रतिपदा को होली के दूसरे दिन धुलंडी मनायी जाती है ।
  • पहली शाम को होलिका दहन या छोटी होली के रूप में जाना जाता है और अगले दिन होली, रंगवाली होली, धुलेटी, धुलंडी, या फगवा के रूप में जाना जाता है।Rajasthan Ke Tyohar Hindi 

शीतलाष्टमीः-

  • यह त्योहार चैत्र कृष्ण अष्टमी को मनाया जाता है |
  • शीतलाअष्टमी हिन्दुओं का महत्वपूर्ण त्यौहार है। इस दिन शीतला माता की पूजा होती है और व्रत भी रखा जाता है।
  • इस दिन बासी खाना खाया जाता है जिस से इसे ‘बासिड़ा‘ कहा जाता है ।
  • राजस्थान के जोधपुर में भी शीतलाष्टमी की धूमधाम से पूजा की जाती है।
  • शीतलामाता का मंदिर चाकसू-जयपुर में है ।
  • यह  त्योहार इसलिए मनाया जात्ता है क्योकि  शीतला अष्टमी पर शीतला माता की पूजा करने से संक्रामक रोग होते हैं |

वर्ष प्रतिपदा/नवसवत्सर:-

  • अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह अक्सर मार्च-अप्रैल के महीने से आरंभ होता है।
  • इस दिन विक्रमादित्य मेला मनाया जाता है।

गणगौर( चैत्र शुक्ल तृतीया ): –

  • गणगौर भारतीय राज्य राजस्थान और गुजरात मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में मनाया जाने वाला त्यौहार
    है।
  • गणगौर को गणगौर रंगीन त्यौहार माना जाता है |
  • राजस्थान के लोगों के सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार में से एक है |
  • गणगौर  पूरे राज्य में मार्च-अप्रैल के दौरान भगवान शिव की पत्नी गौरी की पूजा करने वाली महिलाओं द्वारा बहुत उत्साह और भक्ति के साथ मनाया जाता है।
  • अविवाहित महिलाएं एक अच्छे पति के साथ आशीर्वाद पाने के लिए उसकी पूजा करती हैं|
  • यह उत्सव अब कोलकाता में 100 वर्ष से अधिक पुराना है |rajasthan festival in hindi
  • इस त्यौहार से त्यौहारों की समाप्ति मानी जाती है।

घुड़ला ( चैत्र कृष्ण अष्टमी )

  • यह  त्यौहार जोधपुर के राव सातलदेव की याद में मनाया जाता है ।
  • पहरण करने वाले घुड़ले खान का वध कर महिलाओं का मुक्त कराने की याद में यह पर्व आज भी यहां मनाया जाता है।

हिन्दू नववर्ष चैत्र शुक्ल

  • सारी दुनिया आमतौर पर January 1 को नववर्ष बड़ी धूमधाम के साथ मनाता है लेकि हिंदूधर्म का नववर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के दिन प्रारम्भ होता है ।
  • हिंदी पंचांग में इस तिथि का बहुत अधिक महत्व है Rajasthan Ke Tyohar Hindi 

सिंजारा ( चैत्र शुक्ल द्वितीया )

  • गणगौर व छोटी तीज के एक दिन पूर्व सिंजारा निकाला जाता है ।

बैशाख (Rajasthan Ke Tyohar Hindi)

आखा तीज या अक्षय तृतीया ( बैशाख शुक्ल तृतीया )

  • अक्षय तृतीया, जिसे अक्ती या अखा तीज के नाम से भी जाना जाता है
  • हिंदुओं और जैनियों का एक वार्षिक बसंत उत्सव है।
  • यह वैशाख महीने के ब्राइट हाफ (शुक्ल पक्ष) की तीसरी तीथि (चंद्र दिन) पर पड़ता है
  • यह भारत और नेपाल में हिंदुओं और जैनों द्वारा क्षेत्रीय रूप से एक शुभ समय के रूप में मनाया जाता है

वैशाख पूर्णिमा

  • बुद्ध जयंती के रूप में भी जाना जाता है |
  • बुद्ध पूर्णिमा और बुद्ध दिवस, पारंपरिक रूप से दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया के साथ ही तिब्बत और मंगोलिया में कुछ हिंदुओं और बौद्धों द्वारा मनाया जाने वाला अवकाश है

ज्येष्ठ

वट सावित्री व्रत या बड़मावस ( ज्येष्ठ अमावस्या )

  • सावित्री व्रत या सावित्री अमावस्या, नेपाल और भारतीय राज्यों बिहार, उत्तर प्रदेश और राजस्थान की विवाहित हिंदू महिलाओं द्वारा मनाया जाने वाला एक उपवास दिवस है|
  • विवाहित हिंदू महिलाएं जिनके पति जीवित हैं वे इसे बड़े समर्पण के साथ एक व्रत के रूप में मनाती हैं
  • इस दिन स्त्रियाँ  बड/बरगद की पूजा करती है ।

निर्जला एकादशी ( ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी )

  • निर्जला एकादशी एक हिंदू पवित्र दिन है
  • यह हिंदू माह ज्येष्ठ (मई / जून) के वैक्सिंग पखवाड़े के 11 वें चंद्र दिवस (एकादशी) पर पड़ता है|
  • निर्जला एकादशी सभी 24 एकादशियों में सबसे पवित्र है।
  • यह एकादशी इस दिन मनाया जाने वाले जल-कम (निर्-जल) से इसको निर्जला एकादशी कहते है
  • निर्जला एकादशी दिन बिना जल के व्रत किया जाता है ।

पीपल पूर्णिमा ( ज्येष्ठ पूर्णिमा )

  • यह ज्येष्ठ पूर्णिमा को मनाया जाता है |
  • पीपल पूर्णिमा के दिन पीपल वृक्ष की पूजा की जाती है |
  • हिंदू धर्म में ज्येष्ठ पूर्णिमा एक साल में पड़ने वाली पूर्णिमा में से सबसे ज्यादा माने जाने वाली पूर्णिमा है |

आषाढ

योगिनी एकादशी  (आषाढ कृष्ण एकादशी )

  • आषाढ़ मास के कृष्‍ण पक्ष की एकादशी को योगिनी एकादशी (Yogini Ekadashi) के नाम से जाना जाता है |
  • हिन्‍दू धर्म में योगिनी एकादशी (Yogini Ekadashi) का  बड़ा महत्‍व है
  • माना जाता है की है यदि कोई  योगिनी एकादशी का व्रत (Yogini Ekadashi Vrat)  व्रत करता है तो सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है|

देवश्यनी एकादशी ( आषाढ कृष्ण एकादशी )

  • शयनी एकादशी या महा-एकादशी या प्रतिमा-एकादशी या पद्मा एकादशी या देवशयनी एकादशी या देवपद एकादशी एकादश चंद्र कई नाम से जानी जाती है।
  • यह हिन्दू माह आषाढ़ के उज्ज्वल पखवाड़े (शुक्ल पक्ष) को (जून – जुलाई) में आती है
  • इसलिए इसे आषाढ़ी एकादशी या आषाढ़ी के नाम से भी जाना जाता है
  • कहा जाता है की इस दिन भगवान विष्णु चार माह के लिए सो जाते हैं ।
  • और इस समय में मांगलिक कार्य सम्पन्न नहीं किये जाते हैं । rajasthan festival in hindi

गुरु पूर्णिमा Guru Purnima (आषाढ पूर्णिमा)

  • गुरु पूर्णिमा (पूर्णिमा) जिसे व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है
  • इस दिन वेद व्यास का जन्मदिन है।
  • यह भारत और भूटान में एक त्योहार के रूप में हिंदुओं, जैन और बौद्धों द्वारा मनाया जाता है
  • यह त्योहार हिंदू महीने आषाढ़ (जून-जुलाई) में पूर्णिमा के दिन (पूर्णिमा) को मनाया जाता है

श्रावण

नाग पंचमी Naga Panchami ( श्रावण कृष्ण पंचमी )

  • नागों या नागों की पारंपरिक पूजा का दिन है।
  • जोधपुर में नागपंचमी का मेला लगता है ।
  • इस दिन विशेष रूप से दूध के प्रसाद के साथ  नाग की पूजा की जाती है

कामिका एकादशी व्रत ( श्रावण कृष्ण एकादशी )

  • कामिका एकादशी व्रत को  भगवान विष्णु की पूजा की जाती है ।
  • यह व्रत श्रावण कृष्ण एकादशी को किया जाता है |
  •  इस एकादशी के व्रत की विधि दशमी से ही शुरू हो जाती है |

हरियाली अमावस्या ( श्रावण अमावस्या )(Rajasthan Ke Tyohar Hindi )

  • श्रावण कृष्ण पक्ष अमावस्या को हरियाली अमावस्या के नाम से जाना जाता है।
  • हरियाली अमावस्या को बुड्डा जोहड़ मेला तथा डिग्गीपुरी का राजा मेला लगता है ।
  •  इस दिन विशेष तौर पर शिवजी का पूजन-अर्चन किया जाता है।
  • हरियाली अमावस्या को अजमेर के मांगलियावास गाँव में वृक्ष मेला लगता है ।

 श्रावणी सोमवार

  • श्रावण मास में श्रावणी सोमवार  बेल पत्र से भगवान भोलेनाथ की पूजा करना और उन्हें जल चढ़ाना  से फल मिलता है |
  • श्रावण सोमवार व्रत की पूजा भी अन्य सोमवार व्रत के अनुसार की जाती है लेकिन इसमें एक समय ही भोजन किया जाता है |

 छोटी तीज ( श्रावण शुक्ल तृतीया )

  •  छोटी तीज या हर‌ियाली तीज  का उत्सव श्रावण मास में शुक्ल पक्ष तृतीया को मनाया जाता है।
  • इस दिन महिलाएं झूला झूलती हैं और लोकगीत गाती हैं
  •  छोटी तीज के साथ ही त्यौहार का आगमन माना जाता है |

रक्षा बन्धन  (श्रावण पूर्णिमा ) Raksha Bandhan

  • रक्षाबंधन एक लोकप्रिय, पारंपरिक रूप से हिंदू, वार्षिक त्यौहार है|
  •   इसे भारत, नेपाल और भारतीय उपमहाद्वीप के अन्य हिस्सों और आसपास के लोगों के बीच मनाया जाता है
  • रक्षाबंधन हिंदू चंद्र कैलेंडर माह श्रावण के अंतिम दिन मनाया जाता है, जो आमतौर पर अगस्त में पड़ता है।
  • “रक्षा बंधन,” संस्कृत, का शाब्दिक अर्थ, “सुरक्षा, दायित्व, या देखभाल का बंधन”
  • उत्तर भारत में, जहाँ गाँव की अतिशयता काफी प्रचलित है, बड़ी संख्या में विवाहित हिंदू महिलाएँ हर साल समारोह के लिए अपने माता-पिता के घर वापस जाती हैं |
  • इसे नारियल पूर्णिमा या सत्य पूर्णिमा भी कहा जाता है ।

भाद्र

बडी तीज/सातुडी तीज/कजली तीज/बूढी तीज ( भाद्र कृष्ण तृतीया)

  • कृष्ण तृतीया को कजरी तीज के रूप में मनाई जाती है। इसे कई नामों से जाना जाता है जैसे सतवा तीज, सातुडी तीज और सौंधा तीज आदि rajasthan festival in hindi
  • सातुडी तीज को व्रत रखकर गायों का पूजन करते है ।
  • सातुडी तीज मेला बूंदी में लगता है
  • रक्षाबंधन पर्व के पश्चात भाद्रपद कृष्ण तृतीया को कजली तीज का व्रत किया जाता हैं

कृष्ण जन्माष्टमी Krishna Janmashtami ( भाद्र कृष्ण अष्टमी )

  • कृष्ण जन्माष्टमी, जिसे बस जन्माष्टमी या गोकुलाष्टमी के रूप में भी जाना जाता है |
  • यह वार्षिक हिंदू त्योहार है |
  • नाथद्वारा (राजसमद) में जन्माष्टमी का मेला लगता है ।
  • इस दिन विष्णु के आठवें अवतार कृष्ण के जन्म का जश्न मनाता है।

गोगा नवमी ( भाद्र कृष्ण नवमी )

  • गोगाजी चौहान राजस्थान के लोक देवता हैं |
  • भादों कृष्णपक्ष की नवमी को गोगाजी देवता का मेला भरता है।
  • यह मेला राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले का एक शहर गोगामेड़ी में लगता है |

हरतालिका तीज ( भाद्र शुक्ल तृतीया )

  • हरतालिका व्रत को हरतालिका तीज या तीजा भी कहते हैं |
  •  इस  पर्व को गौरी शंकर का पूजन करके मनाया जाता है ।
  • यह व्रत भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को होता है |

शिवा चतुर्थी ( भाद्र शुक्ल चतुर्थी ) (Rajasthan Ke Tyohar Hindi )

  • इस दिन पूरे विधि-विधान से शिव जी की पूजा की जाती है।
  • कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को “शिव चतुर्दशी” कहते हैं।

गणेश चतुर्थी  Ganesh Chaturthi

  • गणेश चतुर्थी  जिसे विनायक चतुर्थी (विनायक चतुर्थी) के नाम से भी जाना जाता है|
  • यह एक हिंदू त्यौहार है |
  • इस दिन शेखावाटी में लड़को के सिंजारे आते है ।
  • यह त्योहार निजी तौर पर घरों में, या सार्वजनिक रूप से विस्तृत पंडालों (अस्थायी रूप से) पर गणेश मिट्टी की मूर्तियों की स्थापना के साथ चिह्नित है।
  • इस दिन रणथम्भौर (सवाई माधोपुर)  में मेला लगता है जो बहुत प्रसिद्ध है |

ऋषि पंचमी Rishi Panchami ( भाद्र शुक्ल पंचमी )

  • यह चंद्र कैलेंडर के भाद्रपद महीने में गणेश चतुर्थी के अगले दिन होता है
  • यह सप्त ऋषि की पारंपरिक पूजा है
  • सात ऋषि – कश्यप, अत्रि, भारद्वाज, विश्वामित्र, गौतम महर्षि, जमदग्नि और वशिष्ठ
  • इस व्रत में, लोग उन प्राचीन ऋषियों के महान कार्यों के प्रति सम्मान, कृतज्ञता और स्मरण व्यक्त करते हैं |

राधाष्टमी Radhastami ( भाद्र शुक्ल अष्टमी )

  • राधाष्टमी  राधा जी के जन्म के रूप में मनाया जाता है ।
  • भगवान कृष्ण के 16,000 मित्र थे, जिन्हें गोपी और गोपीक कहा जाता था, जिनमें से राधा सबसे प्रतिष्ठित 108 में से एक थीं |
  • राधाष्टमी को बृज क्षेत्र में औपचारिक रूप से मनाया जाता है।
  • राधाष्टमी  के दिन अजमेर की निम्बार्क पीठ सलेमाबाद में मेला भरता है ।

विश्व कर्मा जयन्ती Vishwakarma Puja (भाद्रपद शुक्ल दशमी)

  • विश्वकर्मा जयंती, एक हिंदू देवता, दिव्य वास्तुकार, विश्वकर्मा के उत्सव का दिन है |
  •  इस दिन यंत्र और औजारों की पूजा की जाती है ।
  • विश्वकर्मा को दुनिया का निर्माता माना जाता है।
  • यह त्योहार मुख्य रूप से कारखानों और औद्योगिक क्षेत्रों में मनाया जाता है |

रामदेव जयन्ती (भाद्रपद शुक्ल दशमी)

  • बाबा रामदेव का जन्मोत्सव  को रामदेव जयन्ती मनाई जाती है |
  • रामदेव जी राजस्थान के एक लोक देवता हैं |
  • इस दिन रामदेवरा रूणेचा (जैसलमेर) में विशाल मेले का आयोजन किया जाता है ।

जलझूलनी/देवझूलनी (भाद्र शुक्ल एकादशी)

  • भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की एकादशी जलझूलनी या पदमा एकादशी कहलाती है.|
  • इस दिन भगवान श्री विष्णु के वामन रूप की पूजा की जाती है
  • इस दिन देवों की मूर्तियों को पालकियों तथा विमानों में गाजे-बाजे के साथ लेकर जलाशय के पास जाते है तथा स्नान करवाया जाता है ।Rajasthan Ke Tyohar Hindi 

श्राद्धपक्ष (भाद्र पूर्णिमा)

  • आश्विन के कृष्ण पक्ष को हमारे हिन्दू धर्म में श्राद्ध पक्ष के रूप में मनाया जाता है
  •  इसको  महालय और पितृ पक्ष भी कहते हैं।
  • बुजुर्गों की मृत्यु तिथि के दिन श्रद्धापूर्वक तर्पण और ब्रह्मण को भोजन कराना ही श्राद्ध है । इस संस्कार को कनागत कहते है ।

साँझी

  •  यह पर्व प्रमुख पर्व है जो भाद्रपद की पूर्णिमा से अश्विन मास की अमावस्या को मनाया जाता है।
  • यह त्यौहार राजस्‍थान,गुजरात, ब्रजप्रदेश, मालवा, निमाड़ हरियाणा तथा अन्‍य कई क्षेत्रो में मनाया जाता है
  • साँझी त्यौहार में 15 दिन तक कुँवारी कन्याएँ भांति-भांति की सांझियाँ बनाती है व पूजा करती हैं ।
  • इस दिन सब जगह रौनक व उत्साह छाया रहता है।

सतिया अमावस्या (भाद्रपद अमावस्या)

  • सतियां अमावस्या भाद्रपद की अमावस्या को कहा जाता है

बछबारस (भाद्र कृष्ण द्वादशी)

  •  बछबारस का पर्व राजस्थानी महिलाओं में ज्यादा लोकप्रिय है।
  • भाद्र कृष्ण द्वादशी के दिन व्रत करती है |
  • इस दिन गाय व बछडों की सेवा की जाती है ।

आश्विन (Rajasthan Ke Tyohar Hindi)

नवरात्र:-

  •  यह त्योहार हिंदू कैलेंडर माह अश्विन के उज्ज्वल आधे में मनाया जाता है|
  • नवरात्रि एक हिंदू त्योहार है जिसे भारतीय सांस्कृतिक क्षेत्र के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है |

दुर्गाष्टमी (आश्विन शुक्ल अष्टमी)

  • दुर्गा अष्टमी या महा अष्टमी, पाँच दिनों तक चलने वाले दुर्गा पूजा महोत्सव के सबसे शुभ दिनों में से एक है।
  • परंपरागत रूप से, त्योहार सभी भारतीय घरों में 10 दिनों के लिए मनाया जाता है |
  • भारत में इस पर कई लोगों द्वारा उपवास किया जाता है।
  • इस दिन ‘गरबा’ नृत्य करने और रंगीन कपड़े पहनने के लिए भी एकत्रित होते हैं
  • दुर्गाष्टमी अवसर पर दुर्गा देवी की पूजा की जाती है
  • इस दिन नौ कुंवारी कन्याओँ को भोजन करवाया जाता है ।Rajasthan Ke Tyohar Hindi 

Dussehra दशहरा (आश्विन शुक्ल दशमी )

  • विजयादशमी  जिसे दशहरा, दशहरा या दशा के नाम से भी जाना जाता है |
  • हर साल नवरात्रि के अंत में मनाया जाने वाला एक प्रमुख हिंदू त्योहार है
  •  इस दिन राजस्थान में कोटा  और मैसूर शहर में सबसे बडा मेला लगता है ।
  • दशहरे के दिन शमी वृक्ष (खेजडी) की पूजा की जाती है Rajasthan Ke Tyohar Hindi 

शरद पूर्णिमा Sharad Purnima (आश्विन पूर्णिमा)

  • शरद पूर्णिमा जिसे कुमारा पूर्णिमा, कोजागिरी पूर्णिमा, नवन्ना पूर्णिमा या कौमुदी पूर्णिमा   के नाम से भी जाना जाता है
  • यह एक फसल त्योहार है |
  • इस दिन रात्रि को खीर बनाकर पूरी रात चांदनी रात में रखकर सुबह खाईं जाती है ।
  • धन की हिंदू देवी लक्ष्मी को इस दिन महत्वपूर्ण रूप से पूजा जाता है

कार्तिक (Rajasthan Ke Tyohar Hindi)

करवा चौथ Karva Chauth

  • करवा चौथ उत्तर भारत के कुछ क्षेत्रों में हिंदू महिलाओं द्वारा मनाया जाने वाला एक दिवसीय त्यौहार है|
  • जो कार्तिक महीने में पूर्णिमा (पूर्णिमा) के चार दिन बाद मनाया जाता है।
  • कई हिंदू त्योहारों की तरह, करवा चौथ चंद्र कैलेंडर पर आधारित है
  • इस दिन स्त्रियां सुहाग की लंबी आयु के लिए व्रत करती है ।

अहोई अष्टमी Ahoi Ashtami

  • अहोई अष्टमी कृष्ण पक्ष अष्टमी पर दिवाली से लगभग 8 दिन पहले मनाया जाता है |
  • यह पूर्णिमंत कैलेंडर के अनुसार उत्तर भारत में, यह कार्तिक महीने के दौरान पड़ता है
  • अमांता कैलेंडर के अनुसार गुजरात, महाराष्ट्र और अन्य दक्षिणी राज्यों में होता है, यह अश्विन के महीने के दौरान आता है |
  • इस दिन पुत्रवती स्त्रियां निर्जल व्रत करती है ।
  • अहोई अष्टमी पर उपवास और पूजा माता अहोई या देवी अहोई को समर्पित है
  • यह व्रत अपने बच्चों की भलाई और लंबे जीवन के लिए माताओं द्वारा किया जाता है

तुलसी एकादशी ( कार्तिक कृष्ण एकादशी )

  • तुलसी एकादशी दिन तुलसी की पूजा की जाती है ।
  • हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी  तुलसी विवाह (Tulsi Vivah) का आयोजन किया जाता है।

धन तेरस Dhanteras (कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी )

  • धनतेरस जिसे धनत्रयोदशी के रूप में भी जाना जाता है|
  • धनतेरस के अवसर पर धनवन्तरि वैद्य जी का पूजन किया जाता है उन्हें आयुर्वेद का देवता माना जाता है |
  • इस दिन बर्तन और गहने खरीदना शुभ माना जाता है ।

रूप चतुर्दशी (कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी)

  • दीपावली पर्व के ठीक एक दिन पहले माने जाता है
  • इस दिन को छोटी दीपावली के रूप में मनाया जाता है
  • इसी दिन शाम को दीपदान की प्रथा है जिसे यमराज के लिए किया जाता है।

दीपावली Diwali (कार्तिक अमावस्या)

  • यह हिन्दुओं का सबसे बड़ा त्यौहार है ।
  • दीपावली कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है
  • इसे दीपोत्सव भी कहते हैं
  • दीपावली के दिन अयोध्या के राजा राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे Rajasthan Ke Tyohar Hindi

गोवर्धन पूजा व अन्नकूट (कार्तिक शुक्ल एकम्)

  • गोवर्धन पूजा नाथद्वारा (राजसमन्द) का प्रसिद्ध महोत्सव है ।
  • यह त्योहार पूरे भारत और विदेशों में अधिकांश हिंदू संप्रदायों द्वारा मनाया जाता है।
  • गोवर्धन पूजा  के दिन मन्दिरों में अन्नकूट महोत्सव मनाया जाता है ।
  • गोवर्धन दिन सुबह के समय गौ के गोबर से गोवर्धन की पूजा की जाती है|Rajasthan Ke Tyohar Hindi 

भैया दूज Bhai Dooj (कार्तिक शुक्ल द्वितीया)

  • इस दिन छोटी बहन भी अपने बड़े भाइयों को उपहार देती हैं। भाई भी अपनी बहनों को उपहार देते हैं।
  • भाई दूज यम द्वितीय के रूप मे मनाया जाता है
  •  यह दिन रक्षा बंधन के त्योहार के समान हैं।

गोपाष्टमी (Gopastami) ( कार्तिक शुक्ल अष्टमी )

  •  यह पर्व भगवान कृष्ण और गायों को समर्पित है
  • गोपाष्टमी को गाय व बछड़े की पूजा की जाती है ।

आंवला नवमी/अक्षय नवमी (कार्तिक शुक्ल नवमी)

  • आंवला नवमी आंवले के वृक्ष की पूजा की जाती है ।
  • यह  कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाई जाती है
  • इसकोअक्षय नवमी भी कहा जाता है।

देव उठनी ग्यारस (कार्तिक शुक्ल एकादशी)

  • देवउठनी एकादशी तक छह माह तक रहती है।
  • देवउठनी के दिन भगवान विष्णु चार माह तक निद्रावस्था में रहने के बाद जागते है ।
  • इसीलिए छह मास तुलसी की पूजा से ही देवपूजा का फल प्राप्त हो जाता है।

 कार्तिक पूर्णिमा Kartik Purnima

  • कृतिका पूर्णिमा एक हिंदू, सिख और जैन सांस्कृतिक त्योहार है
  • इस दिन  गंगा स्नान और पुष्कर स्नान का विशेष महत्व है ।
  • इस दिन गुरूनानक जी का जन्म हुआ था ।
  • कृतिका पूर्णिमा को  त्रिपुर पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है ।

 मकर संक्रान्ति  Makar Sankranti

  • मकर संक्रांति देवता सूर्य (सूर्य) को समर्पित है। यह हर साल माघ के चंद्र महीने में मनाया जाता है
  • यह लगभग हमेशा हर साल (14/15 जनवरी) को मनाई जाती है
  • इस दिन पवित्र नदियों या झीलों में जाते हैं और सूर्य को धन्यवाद देने की रस्म में स्नान करते हैं

पौष

गुरू गोविन्द सिंह जयन्ती Guru Gobind Singh  (पौष शुक्ल सप्तमी)

  • गुरु गोविंद सिंह जी सिखों के दसवें गुरु हैं।
  • इस दिन गुरू गोबिन्द सिंह जी ने गुरू परम्परा को समाप्त कर अपने धर्म ग्रंथ ‘गुरू ग्रंथ साहिब’ को गुरू घोषित किया

माघ

तिलचौथ (माघ कृष्ण चतुर्थी)

  • कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को तिल चौथ मनाते हैं।
  • तिल चौथ को ही सकट चौथ के नाम से जानते हैं।
  • इस दिन गणेशजी व चौथ माता को तिलकुट का भोग लगता है ।

षट्तिला एकादशी ( माघ कृष्णा एकादशी )

  • हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है।
  • षट्तिला एकादशी अधिष्ठाता देव भगवान विष्णु है ।
  •  इस  दिन काली गाय और काले तिलों के दान किये जाते है |

मौनी अमावस्या (माघ अमावस्या)

  • मौनी अमावस्या को मौन व्रत किया जाता है
  • इस दिन भगवान मनु का जन्मदिन हैं ।
  • माना जाता है की यह योग पर आधारित महाव्रत है |

बसंत पंचमी ( माघ शुक्ला पंचमी )

  • Basant Panchami  वसन्त पञ्चमी वसंत पंचमी को बसंत पंचमी भी कहा जाता है |
  • यह वसंत के आगमन की तैयारी का प्रतीक है
  • वसंत पंचमी भी होलिका और होली की तैयारी की शुरुआत का प्रतीक है,
  • इस उत्सव केभगवान श्रीकृष्ण अधिदेवता है
  • इस दिन ब्रज में इस दिन राधा और कृष्ण की लीलाएँ रचाई जाती है

माघ स्नान (माघ पूर्णिमा )

  •   इस दिन प्रयाग में मेला भी लगता है जिसे कल्पवास कहा जाता है।
  • राजस्थान में डूंगरपुर के नवाटापुरा नामक स्थान पर वेणेश्वर मेला लगता है ।

फाल्गुन

महाशिवरात्री Maha Shivratri (फाल्गुन कृष्ण तैरस)

  • महा शिवरात्रि भगवान शिव के सम्मान में प्रतिवर्ष मनाया जाने वाला एक हिंदू त्योहार है।
  • यह नाम उस रात को भी दर्शाता है जब शिव स्वर्गीय नृत्य करते हैं
  • यह हिंदू धर्म में एक प्रमुख त्यौहार है,

ग्यारस आमलकी (फाल्गुन शुक्ल एकादशी)

  • आमलकी एकादशी फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष में होती है
  • इस दिन खाटूश्याथ जी का मेला प्रारंभ होता है ।
  • आमलकी एकादशी  के  दिन व्रत करने से समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं
  • इस दिन पुत्र होने पर पीहर पक्ष की ओर से वस्त्र आदि भेजे जाते है,

होलिका दहन Holika Dahan

  • होलिका दहन, होली त्योहार का पहला दिन, फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।
  • इस दिन  भगत प्रहलाद की स्मृति में मनाईं जाती है ।

मुस्लिम त्यौहार (Rajasthan Ke Tyohar Hindi )

  1. मुहर्रम
  2. ईद-उल-मिला- दुलनबी (बारावफात)
  3. ईद-उल-फितर (मिठी ईद)
  4. ईद-उल-जूहा (बकरीद)
  5. षब्रे कद्र षब्रे बरात, चेहलुम- ये अन्य मुस्लिम त्यौहार है।

जैन धर्म के त्यौहार (Rajasthan Ke Tyohar Hindi )

  1. दष लक्षण पर्व
  2. पर्यूषण पर्व
  3. रोट तीज
  4. महावीर जयंती
  5. ऋषभ देव जयंती

सिक्ख धर्म के त्यौहार (Rajasthan Ke Tyohar Hindi )

  1. वैषाखी
  2. लोहड़ी
  3. गुरू नानक जयंती
  4. गुरू गोविन्द सिंह जयंती

ईसाई धर्म के पर्व (Rajasthan Ke Tyohar Hindi )

  1. क्रिसमिस डे
  2. गुड फ्राइडे
  3. ईस्टर

यह भी पढ़े :– राजस्थान के प्रमुख आभूषण – Rajasthan Ke Aabhushan

Rajasthan GK Book:- Buy Now

उम्मीद है हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपके काम आयेगी यदि जानकारी अच्छी लगे तो शेयर और कमेंट करना ना भूले

 

1 Comment
  1. Gautam kadela says

    Nice enformesion
    Me high cort d grop ki tyari kr rha hu
    In sbhi ki pdf fail mi sakti h kiya

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Translate »